Ancient History: Rig vedic period: Advent of Aryans:for SSC,CLAT,RAILWAY,RRB,POLICE,ALL GOVT EXAM - Videos

0
160

Ancient History: Rig vedic period: Advent of Aryans:for SSC,CLAT,RAILWAY,RRB,POLICE,ALL GOVT EXAM
The Rigveda (Sanskrit: ऋग्वेद ṛgveda, from ṛc”praise, shine”[1] and veda “knowledge”) is an ancient Indian collection of Vedic Sanskrithymns. It is one of the four canonical sacred texts (śruti) of Hinduism known as the Vedas.[2][3] The text is a collection of 1,028 hymns and 10,600 verses, organized into ten books (Mandalas).[4] A good deal of the language is still obscure and many hymns as a consequence are unintelligible.[5][6][7]

The hymns are dedicated to Rigvedic deities.[4] For each deity series the hymns progress from longer to shorter ones; and the number of hymns per book increases.[2] In the eight books that were composed the earliest, the hymns predominantly discuss cosmologyand praise deities.[8][9] Books 1 and 10, which were added last, deal with philosophical or speculative[9] questions about the origin of the universe and the nature of god,[10] the virtue of dāna (charity) in society,[11] and other metaphysical issues in its hymns.[12]

Rigveda is one of the oldest extant texts in any Indo-European language.[13] Philologicaland linguistic evidence indicate that the Rigveda was composed in the north-western region of the Indian subcontinent, most likely between c. 1500 and 1200 BC—[14][15][16]though a wider approximation of c. 1700–1100 BC has also been given.[17][18][note 1] The initial codification of the Rigveda took place during the early Kuru kingdom (c. 1200 – c. 900 BCE).

Some of its verses continue to be recited during Hindu rites of passage celebrations such as weddings and religious prayers, making it probably the world’s oldest religious text in continued use.[23][24]

ऋग्वैदिक कालसंपादित करें

इस काल की तिथि निर्धारण जितनी विवादास्पद रही है उतनी ही इस काल के लोगों के बारे में सटीक जानकारी। इसका एक प्रमुख कारण यह भी है कि इस समय तक केवल इसी ग्रंथ (ऋग्वेद) की रचना हुई थी। मैक्स मूलर के अनुसार आर्य का मूल निवास मध्य ऐशिया है।आर्यो द्वारा निर्मित सभ्यता वैदिक काल कहलाई। आर्यो द्वारा विकसित सभ्य्ता ग्रामीण सभ्यता कहलायी। आर्यों की भाषा संस्कृत थी।

मैक्स मूलर ने जब अटकलबाजी करते हुए इसे 1200 ईसा पूर्व से आरंभ होता बताया था (लेख का आरंभ देखें) उसके समकालीन विद्वान डब्ल्यू. डी. ह्विटनी ने इसकी आलोचना की थी। उसके बाद मैक्स मूलर ने स्वीकार किया था कि ” पृथ्वी पर कोई ऐसी शक्ति नहीं है जो निश्चित रूप से बता सके कि वैदिक मंत्रों की रचना 1000 ईसा पूर्व में हुई थी या कि 1500 ईसापूर्व में या 2000 या 3000 “।[2]

ऐसा माना जाता है कि आर्यों का एक समूह भारत के अतिरिक्त ईरान (फ़ारस) और यूरोप की तरफ़ भी गया था। ईरानी भाषा के प्राचीनतम ग्रंथ अवेस्ता की सूक्तियां ऋग्वेद से मिलती जुलती हैं। अगर इस भाषिक समरूपता को देखें तो ऋग्वेद का रचनाकाल 1000 ईसापूर्व आता है। लेकिन बोगाज-कोई (एशिया माईनर) में पाए गए 1400 ईसा पूर्व के अभिलेख में हिंदू देवताओं इंद, मित्रावरुण, नासत्य इत्यादि को देखते हुए इसका काल और पीछे माना जा सकता है

source

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here